Uncategorized

# रिक्शावाला की अजीब कहानी #…15

Originally posted on Retiredकलम: DCF 1.0 वक़्त से लड़ कर जो अपना नसीब बदल दे , इंसान वही जो अपनी तकदीर बदल दे , क्या होगा कल कभी मत सोचो क्या पता कल वक़्त खुद अपनी लकीर बदल दे… बड़े भाई की हकीकत सुनकर मैं भी अंदर से काँप गया | मैं सोचने पर मजबूर…

# रिक्शावाला की अजीब कहानी #…15

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s