Uncategorized

जिंदगी …

यज्ञदत्त #यज्ञ

अब तो बस, उंगलियों को
गिनते हुए, गुजर रही है
जिंदगी …
क्या अच्छा क्या बुरा
बस गुजर रही है
जिंदगी …
पाया कुछ भी नहीं
बस खोते हुए
कट रही है
जिंदगी …
घर के चौबारे पे
हर सुबह हर शाम
अब तो एक सी है
जिंदगी …
न दिन गुजरते है न रात
बस उंगलियों को
गिनते हुए कट रही है
जिंदगी ।।

View original post

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s