Uncategorized

# तुम्हारा इंतज़ार है #….6

Retiredकलम

हल्की सी आहट भी होती है

तो जाग जाता हूँ मैं

          शायद अभी भी कायम है,

दिल में उम्मीद

      तेरे लौट आने की

आज अनामिका बहुत खुश थी , आज वर्षो बाद राजीव से उसका सामना हुआ था | और उनके बीच की ग़लतफ़हमी भी दूर हो गई |

इतने दिनों से नफरत की आग में जल रही अनामिका को अपनी गलती का एहसास हो चूका था | और राजीव के प्रति उनके मन में जो कटुता थी वह भी समाप्त हो चुकी थी |

राजीव ने अनामिका की पढाई में उसकी उपलब्धि के लिए बधाई दी थी और साथ में एक सुन्दर सा ड्रेस भी गिफ्ट किया था |

आज शादी के अवसर पर उसी ड्रेस को पहन कर अनामिका अजीब सी ख़ुशी का अनुभव कर रही थी | राजीव भी अपने मन की बातों को बता कर अनामिका की नज़रों में एक महान इंसान बन चूका था…

View original post 1,573 more words

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s