Uncategorized

प्रेम वियोग

कला और कलम.... ✍️

बहुत, खोए-खोए से लगते हो
किसी के होए-होए से लगते हो
ग़मज़दा हम भी-बांटते दुखड़े तुमसे पर
तुम किसी की यादों में दामन-भिगोए से लगते हो
अब न सफ़र रहा न हमसफ़र ही कोई
पर अब भी वही सपने-संजोए से लगते हो
हर शख़्स आता ही है यहाँ जाने के लिए पर तुम तो
उसके आने की प्रतीक्षा के बीज-बोए से लगते हो

@ सचिन

View original post

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s